Tag Archives: #my life story

Childhood Moments 2 ( ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ପିଲା ଦିନ)

ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ପିଲା ଦିନ
ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ପିଲା ଦିନ


ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ବାଟି ଖେଳ,
ଧାନ ଗଦା ଲୁଚ କାଳୀ ଖେଳ,
ପୋଖରି ବୁଡ଼ା ଖେଳ,
ତୋଟା ମାଳେ ଆମ୍ବ ଚଟଣୀ,
ଆଉ ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ନଡିଆ ସଢେଇ ରେ
ରନ୍ଧା ହୋଇଥିବା ରୋଷେଇ ।

ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ବୁମର୍ ଟାଟୁ
ପଥର ଖେଳ,
ବାଡି ଡିଆଁ,
ବାଉଁଶ ଦୋଳି,
ଆଉ ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ସ୍କୁଲ୍ ର ଟୁ ଟେନ୍ ଛୁଟି।

ହଜି ଯାଇଛି ମାମୁଁ ଘର ମୁଢ଼ି ମିକ୍ଚର
ସେ ତାଳ ପିଠା,
ସେ ଆପାଚି ଭଜା,
ସେ ରାଗ ଚଣା ତରକାରୀ,
ଆଉ ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ଅମୂଲ ଚୋରି ।

ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ଆଈ ଗପ
ମୋ ବୋଉ ମାଡ,
ବାପାଙ୍କ ରାଗ ଆଖି,
ଭଉଣୀ କଳି,
ଆଉ ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ଭାଇ ସହିତ ଗୋଟିଏ ଥାଳିରେ ଭାତ।

ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ପାହାଡ ଚଢା
ମୋ ପଇଡ଼ ଚୋରା,
ନଦୀ ପହଁରା,
ମୋ ସାଇକେଲ ମାଡ,
ଆଉ ହଜି ଯାଇଛି ସେ ଜରି ବ୍ୟାଗ୍ ର ପଟା ମୁଣା ।

ମନେ ପଡେ ମୋ ଗାଁ ଦାଣ୍ଡ
ଯେଉଁଠି କେତେ ଯେ ମହୋତ୍ସବ,
ଚୋର ପୁଲିସ ଖେଳ,
ସଂଧ୍ୟା ରେ ହରିବୋଲ
ଭୁଜା ଉଖୁଡା ।
କାରଣ ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ପିଲା ଦିନ ।
 
ଆଜି ମୋ ପ୍ରାଥମିକ ସ୍କୁଲ୍ ର ପୁରୁଣା ଛବି
ବାରମ୍ବାର ମନେ ପଡେ,
ସେ ସାର୍ ଙ୍କ ମାଡ,
ସେ ଚଉକି ବସା,
ଭାରି ମନେ ପଡେ
କାରଣ ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ପିଲା ଦିନ।

ଆଜି ଭାରି ମନେ ପଡେ
ଯେବେ ଦେଖେ ମୋ ପିଲା ଦିନ ର ସାଙ୍ଗ କୁ
ଚାଲିଯିବାକୁ ଭାରି ଇଛା
ସେ ସମୟ କୁ
କିନ୍ତୁ ଦୁହେଁ ଭାବି ଭାବି ଦୁଃଖୀ ହୋଇଯାଉ
କାରଣ ହଜି ଯାଇଛି ଆମ ପିଲା ଦିନ।

ଏକ ସ୍ୱପ୍ନର ରାଇଜ,
ଯେଉଁଠି କେବଳ ପ୍ରେମ,
ଭଲ ପାଇବା ର ସ୍ରୋତ ଥିଲା।

କଣ ଥିଲା ସେ ସମୟ ???
ଯାହା ଆଜି ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଭୁଲି ହେଉନି
ତାହା ଥିଲା ମୋ ପିଲା ଦିନ…

ଯାହା ଆଜି ହଜି ଯାଇଛି
ଅଜଣା ରାଇଜରେ
ନା କେହି ଚୋରି କରି ନେଇଛି
ତାକୁ ଆଜି ଖୋଜି ବୁଲୁଛି ???

କାରଣ ହଜି ଯାଇଛି ମୋ ପିଲା ଦିନ….
😒😒😦😒😦😒😒😒




ନୀଳମାଧବ ଭୂୟାଁ (ଗାଳ୍ପିକ)

Childhood Moments 1 (ପିଲା ଦିନ ର କିଛି ଅନୁଭୂତି)

 
Some Childhood Moments
Some Childhood Moments

 

 

 

 

 

ପିଲା ଦିନ ର କିଛି ଅନୁଭୂତି ଆମକୁ ବହୁତ ଖୁସି ଦେଉଥିଲା ।
 

 

ପିଲାଦିନେ ଆମେ ସାଇକେଲ ତିନୋଟି ପଯ୍ୟାୟ ଦେଇ ଶିଖୁଥିଲୁ ।

 

ପ୍ରଥମ- ବାଙ୍କୀ
ଦ୍ୱିତୀୟ-ବାର୍
ତୃତୀୟ- ସିଟ
ସେତେବେଳେ ସାଇକେଲ ଚଲେଇବା ଆଉ ଶିଖିବା ବହୁତ ଭାଗ୍ୟରେ ମିଳୁଥିଲା । ଘରେ କେବଳ ଗୋଟିଏ ସାଇକେଲ ଥାଏ ତାହା କେବଳ ବଡ଼ ମାନେ ହିଁ ଚଲେଇବେ ।

 

 

ସେତେବେଳେ ସାଇକେଲ 24 ଇଞ୍ଚ ଉଚ୍ଚତା ଥିଲା । ଆମେ ଠିଆ ହେଲେ ଆମର କାନ୍ଧ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ହିଁ ହେଉଥିଲା । ସିଟ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ପହଂଚିବା ପାଇଁ ଆମେ କେତେ ସ୍ୱପ୍ନ ଦେଖୁଥିଲି । ଆମେ କେବେ ବଡ଼ ହେବୁ ସେ କଥା ପ୍ରତିଦିନ ଭାବୁଥିଲୁ ।

 

 

 

ବାଙ୍କୀ- ଏହି ପଯ୍ୟାୟ ରେ ଆମେ ତିନି କୋଣିଆ ଫ୍ରେମ ଭିତରେ ପଶି ଦୁଇ ପଟେ ପେଦଲ ମାରି ସାଇକେଲ ଚଳାଉଥିଲୁ । କିଛି ସମୟ ପେଦଲ ମାରିବା ପରେ ଆମେ ପେଦଲ ଉପରେ ଠିଆ ହୋଇ ଛାତି କୁ ଚଉଡା କରି ସାମ୍ନା କୁ ଦେଖି ସାଇକେଲ ର ଘଣ୍ଟି କୁ ବାରମ୍ବାର ବଜେଇ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ଜଣେଇବା ଗୋଟିଏ ଅଲଗା ଖୁସି ଥିଲା । ସେହି ବାଙ୍କୀ ଶିଖିବାରେ କେତେଥର ପଡି ଗୋଡ ମାଡ଼ ହେବା ଆମ ପାଇଁ ସାଧାରଣ ଥିଲା । ସେହି ବାଙ୍କୀ ପଯ୍ୟାୟ ରେ କେତେଥର Race ଭି ଆୟୋଜନ କରାଯାଇଛି ।

 

 

 

ସେମିତି ବାର୍ ଚଲେଇବା ସମୟରେ ଆମେ ପ୍ରକୃତ ସାଇକେଲ ଚଳେଇବାର ଅଭିଜ୍ଞତା ହାସଲ କରିସାରିଥାଉ । ଆଉ ସେହି ବାର୍ ଚଲେଇବା ସମୟରେ ବେଳେବେଳେ ସିଟ ଉପରେ ବସି କିଛି ଦୂର ଚଲେଇବା ମଧ୍ୟ ଗୋଟିଏ ଅଲଗା ଖୁସି ଥିଲା । ଆଉ ସେହି ସିଟ ଉପରେ ବସି ଯେବେ ଚଲେଇବାର ଜାଣିଲୁ ସେତେବେଳେ ଭାବିଲୁ କି ଆମେ ପକୃତ ସାଇକେଲ ଚାଳକ ନୁହଁ ଆମେ ଯେମିତି ଉଡାଯାହାଜ ଚଳେଇବାର ଖୁସି ଅନୁଭବ କରୁଥିଲୁ ।

 

 

 

ଆଜି ର ପରମ୍ପରା ରେ ଛୋଟ ପିଲା ମାନଙ୍କୁ ଏତେ ସୁବିଧା ପ୍ରଦାନ କରାଯାଉଛି । ଯେ ସେମାନେ ଜୀବନ ର ପକୃତ ସନ୍ତୁଳନ ଜାଣିପାରୁନାହାନ୍ତି । ଛୋଟ ବେଳୁ ସେମାନଙ୍କୁ ତାଙ୍କ ଉଚ୍ଚତା ମୁତାବକ ସାଇକେଲ ପ୍ରଦାନ କରାଯାଉଛି ସନ୍ତୁଳନ(Balance) କରିବାର ଆବଶ୍ୟକତା ହିଁ ନାହିଁ । ଦୁଇ ଚକା ବାହାର ପଟେ ସନ୍ତୁଳନ କରିବା ପାଈଁ ଛୋଟ ଛୋଟ ଚକା ଲଗା ଯାଇଥାଏ । ସେମାନେ ଦୁନିଆ କୁ ସନ୍ତୁଳନ କରିବା ଜାଣି ନାହାନ୍ତି । ଏମିତି କି ବଡ଼ ବଡ଼ ଘର ର ଲୋକମାନେ ନିଜ ପୁଅ ଝିଅ ପାଈଁ ବେଟେରୀ ଯୁକ୍ତ Bike ମଧ୍ୟ ପ୍ରଦାନ କରି ତାଙ୍କର ଅଭାବ କୁ ପୂରଣ କରୁଛନ୍ତି ।

 

ଆଉ ଆମ ପିଲା ଦିନ କେତେ ଅଭାବ ରେ ଯାଇଛି ତାହା ଆମ ମନ ଭିତରେ ଢାଙ୍କି ରଖିଛୁ ।

 

 

 

ଆଜି ର ଛୋଟ ପିଲା ମାନେ ଜାଣି ନାହାନ୍ତି ଆମେ ସେହି ସମୟରେ ପକୃତ ସନ୍ତୁଳନ ର ଅନୁଭବ କରିଥିଲୁ । ଆଉ ସେଠୁ ଆମର ଜୀବନର ସନ୍ତୁଳିତ କରିବାର ଅନୁଭୂତି ଆରମ୍ଭ ହୁଏ ।

 

 

 

ସାଇକେଲ ଚଲେଇବା ଆଉ ଶିଖିବା ଇଛା ଥାଏ କିନ୍ତୁ ମନରେ ଅଲଗା ଆଶା ବାନ୍ଧିଥାଏ । କାରଣ ଶ୍ରେଣୀ ବଢିବା ସାଙ୍ଗରେ ଯଦି ସାଇକେଲ ଶିଖିନଥିବୁ ତେବେ ହାଇସ୍କୁଲ କୁ ଚାଲି ଚାଲି ଯିବାକୁ ହେବ ଆଉ ଯଦି ସାଇକେଲ ଶିଖିଯାଇଛୁ ତେବେ ବାପାଙ୍କ ପାଖରେ ନୂଆ ସାଇକେଲ ପାଇଁ Demand କରିପାରିବୁ ।

 

 

 

ଆମ ପିଢ଼ି ପରେ କିଛି କିଛି ଖେଳ ଆଉ କିଛି ଜିନିଷ ଯେମିତି ବିଲୁପ୍ତ ହୋଇଯାଇଛି ।

 

 

 

ଯେମିତି ବାଟି ଖେଳ, ଡାହି ମାଙ୍କୁଡ଼ି, ପିଲି ବାଡ଼ି, ଗ୍ୟାସ ଖେଳ, ଚୋର ପୁଲିସ, ବାଡ଼ି ଡିଆଁ, ପୋଖରୀ ରେ ବୁଡି ବୁଡି ଖେଳିବା । କୂଅ ଭିତରେ ପଶି ପଙ୍କ ବାହାର କରିବା, କାହାର ବଗିଚା ରେ ନଡ଼ିଆ ଚୋରେଇବା, ମରିଚ ଆଉ ଲୁଣ ସାଙ୍ଗରେ ଧରି ବୁଲିବା ଆଉ ଯୋଉ ଜାଗାରେ ଟମାଟ,କାକୁଡି ଆଉ ତେନ୍ତୁଳି ମିଳେ ସେଠି ଲୁଣ ମରିଚ ସାଙ୍ଗରେ ଖାଇବା । ଏମିତି ବହୁତ ଜିନିଷ ଅଛି ଯାହା ଆମ ପରେ ଯେମିତି ଲୋପ ପାଇଯାଇଛି ।

 

 

 

ଆମ ପିଢ଼ି ପରେ ବାଲି ଖେଳ ଆଉ ବାଲି ରେ ଘର କରି ଖେଳିବା ଯେମିତି ଲୋପ ପାଇଯାଇଛି । ଦୋଳି ଖେଳିବା ଆଉ ଖାସ କରି ବାଉଁଶ ଦୋଳି ବହୁତ ଚର୍ଚ୍ଚା ରେ ଥିଲା ।

 

 

 

ଆମେ ବହୁତ ଥର ଜେଜେ ବାପା, ଜେଜେ ମା ଆଉ ଆଇ ମା ଠାରୁ ଗପ ଶୁଣିଛୁ ଆଉ ଆଜି ଯେମିତି ସେ ସବୁ ଲୋପ ପାଇଯାଇଛି ।

 

 

 

ଆମର  Cooler, Air Conditioner ବିନା ମଧ୍ୟ ଦିନ ଵିତୁଥିଲା । 

 

ଗରମ ହେଲେ ଛାତରେ ଉପରେ ଶୋଇବା ଆଉ ମସ୍ତି କରିବା ଅଲଗା ଖୁସି ଥିଲା । ଛାତରେ ଶୋଇବା ପାଇଁ ସନ୍ଧ୍ୟା ବେଳେ ପାଣି ରେ ସେହି ଜାଗାକୁ ଓଦା କରିବା ଗୋଟିଏ ଅଲଗା ଅନୁଭୂତି ଥିଲା ।

 

 

 

ଶୀତ ହେଲେ ଚୁଲି ଆଉ ଧୁନି ର ଚାରି ପାଖରେ ବସି କଥା ହେବା ଯେମିତି କମ୍ ହୋଇଯାଇଛି ।

 

 

 

ଆମେ ସେହି ପିଢ଼ି ରେ ଥିଲୁ ସ୍କୁଲ ର ବାରଣ୍ଡା ରେ ବସି ଟିଉସନ ପଢିଥିଲୁ । ଘରେ ମିଞ୍ଜି ମିଞ୍ଜି ଲାଇଟ ର ଆଲୁଅ ଠୁ କିରୋସିନ ଦୀପ ର ଆଲୁଅରେ ଆମକୁ ସବୁ ଦେଖାଯାଉଥିଲା ।

 

 

 

ଆମେ ସୋରିଷ ତେଲ କୁ ଖାଇବା ଆଉ ମୁଣ୍ଡରେ ପ୍ରତିଦିନ ଲଗେଇ ସ୍କୁଲ ଯାଉଥିଲୁ । 

 

 

 

ପେନ ର ସାହି ସରିଗଲେ ତାକୁ ନିଆଁ ରେ ଲଗେଇ ଫୋଟକା କରିବା ଅଲଗା ମଜା ଥିଲା । ଆଉ ସେହି ସାହି ରେ  ଆମ ହାତ ଆଉ ପାଟି ନୀଳ ଆଉ ରଙ୍ଗ ବହୁତ ଥର ହେଇଛି । ଭଳି ଭଳି କି ପେନ ରଖିବା ମଧ୍ୟ ପସନ୍ଦ ଥିଲା ।

 

 

 

ଖାତାର କାଗଜ ଚିରି ବହିରେ ରଖି ବଡ଼ Number ଯାହାର ହେବ ସେଥିରେ କାଗଜ ଜିତିବା ମଧ୍ୟ ଅନ୍ୟ ଏକ ଅନୁଭୂତି । 

 

 

 

ଆମେ ସେ ପିଢ଼ି ଥିଲୁ ବଡ଼ ଲୋକ ମାନଙ୍କୁ ଦେଖିଲେ ରାସ୍ତା ବଦଳେଇ ଅନ୍ୟ ରାସ୍ତାରେ ଯାଉଥିଲୁ ।

 

 

 

ଆମ ପରେ ସ୍କୁଲ ରେ ମାଡ଼ ଖାଇବା ଆଉ ଚୌକି ବସିବା ଯେମିତି ଲୋପ ପାଇଗଲା ।

 

 

 

ଆମେ ଧଳା ଦାନ୍ତ ମଞ୍ଜନ ଗୁଣ୍ଡ ଆଉ ଅଙ୍ଗାର ରେ ଦାନ୍ତ ଘଷିବା ର ମଜା ବି ନେଇଛୁ । 

 

 

 

ଯଦି ପାଖରେ ଏକ ଟଙ୍କା ଅଛି ତେବେ ଆମେ ଭାବୁଥିଲୁ କି ଆମ ପାଖରେ ସବୁ କିଛି ଅଛି ।

 

 

 

ରାତିରେ ଲାଇଟ ଗଲା ପରେ ଛାତ ଉପରେ ଯାଇ ସହର କୁ ଦେଖି ଭାବୁଥିଲୁ ପକୃତରେ ସହର ଟା ରାତିରେ ଦେଖିବାକୁ କେମିତି ତାହା ମଧ୍ୟ ଅନ୍ୟ ଏକ ଖୁସି ଥିଲା ।

 

 

 

ରାତିରେ ତାରା ଗଣିବା ଆଉ ଆମ ସାଙ୍ଗରେ ଜହ୍ନ ମାମୁ ଆମ ସାଙ୍ଗରେ ଚାଲୁଛନ୍ତି ଭାବିବା । ଏହି ଖୁସି ମଧ୍ୟ ଗୋଟିଏ ଅଲଗା ଅନୁଭୂତି ।

 

 

 

ରାତିରେ ନାମ ଆଉ ଯାତ୍ରା ଦେଖିବା ପାଈଁ ଚାଲି ଚାଲି ଯିବା ମଧ୍ୟ ଅଲଗା ଖୁସି ଥିଲା ।

 

 

 

ଶ୍ରୀକୃଷ୍ଣ, ମହାଭାରତ, ରାମାୟଣ,ଶକ୍ତିମାନ ଆମର ପ୍ରିୟ ଧାରାବାହିକ ଥିଲା । National channel ସବୁ କିଛି ଥିଲା । 

 

 

 

 

 

ଆଜି ଯେମିତି ସେ ସବୁ ପରିବର୍ତ୍ତନ ହୋଇଯାଇଛି । ସମୟ ର ତାଳେ ତାଳେ ଆମେ ମଧ୍ୟ ପରିବର୍ତ୍ତନ ହୋଇଯାଇଛୁ।
 

 

 

 

 

 

 

Thank You

 

 

 

 

 

Share this link to your friends following the Share on Whatsapp button. 

 

 

 

 

 

Bhuyans_Blog

 

 

 

Some-Childhood-Moments

Success Story (Part – 2)

Success Story  (Part - 2)
Success Story (Part – 2)
#Sucess Story (Part – 2)
24 तारीख सुबह 6.00 बजह रेपोटिंग था । परंतु में सुबह 5.30 बजह पहुंच चुका था और यह सब संभब हो रहा था केबल मेरे अंकल की बजह से । मेरे अंकल के बारे में थोड़ा जानकारी दे देता हूँ । वो मेरे गाँव के अंकल है (Mr. Ashok Kumar Nanda) जो पिछले कई सालों से अपनी परिबार के साथ Rourkela में आ कर रह रहे हैं । जब से मेरा Rourkela में selection process चलति आ रही है तब से उन्होंने मेरे लिये बक्त निकाल कर मुझे जाने आने तथा उनके घर मे रहने का बंदोबस्त किये थे । किसि तरह कोई भी असुविधा होने पर अंकल मुझे सलाह के साथ मदद भी करते थे । जब जरूरत पड़े बहां आकर खड़े होते थे । सुबह सुबह कड़ाके की ठंड में भी वो मुझे Recruitment Camp में छोड़ने जाते थे । उनकी मदद को में कभी नहीं भूल पाऊंगा । उनकी घर में प्रबेश के बाद सोचा था की मुझे अतिथि जैसे सेबाएं प्रबंध किया जाएगा परंतु बहां मुझे बेटे जैसे सम्मान दिया गया । जितना सम्मान उन्होंने मुझे दिए थे उतना सम्मान मेरे कोई अन्य रिस्तेदार के घर से नहीं मिला था । उनकी जितना भी तारीफ करूँ तो कम पड़ेगा । उनकी नम्र ब्यबहार आज तक वैसा ही है । पहला सिलेक्शन से लेकर आखरी तक बो मेरे साथ थे ।
Rourkela बिसरा कैम्प में हमको पहुंचना था । वह दिन खुसी तथा भाग्य बदलने बाला दिन था । 06.00 बजते ही एक एक करके सबकी मेडिकल call Letter जांच तथा नाम के साथ प्रबेश किया जा रहा था । एक जवान आये हमको एक लाइन में खड़े होने का आदेश दिए और क्या करना है और कहां जाना है उसके बारे में दिशा निर्देश किये तथा हमको सुभकामनाये दिए। आखरी में एक शब्द बोले और उश शब्द को सुनकर जितने भी लड़के गेट के अंदर प्रबेश किये थे सबके मुख में रौनक के साथ खुसी भर गया । बो शब्द था कि ” यह गेट आपकी भाग्य रेखा खोलेगी , जो भी लड़का यह गेट में कदम रखा बह आज यहां से नौकरी का कॉल लेटर अपने साथ लेकर जाएगा और जो नहीं आया उसका नसीब खराब हैं। ” इशलिये जो में बोलता हूं उसी तरह काम कीजिये । कोई भी लड़का बिना बताये कहीं नहीं जाएगा । जहां भेजा जाएगा एक एक करके जाएंगे और अनुसाशन का पालन करेंगे । कुछ मिनट के बाद एक ट्रक आया और हमको ग्राउंड में लिया गया । बहां पर हमारा फ़ोटो शूट किया गया और कुछ डॉक्यूमेंट चेक करके मेडिकल जांच हेतु लिया गया ।
मेडिकल में हम 08 बजह पहुंच गए थे । पहले हमको अपना यूरिन तथा Blood देने केलिए बोला गया । सारे लड़के एक एक करके blood एबं urine लैबोरेटरी में submit किये । फिर हमको X-Ray टेस्ट केलिए लिया गया । उसके बाद Eye,Ear, Body Parts, Body Scratching, Vein test Etc.. टेस्ट किया गया । समय का अंदाज़ा नहीं था । दिन निकल गया देखते देखते 04 बज गया । उस दिन 40 से अधिक लड़के को मेडिकल जांच हेतु बुलाया गया था । सबको भूक लग रहा था और कोई पूछता है तो उनको बाहर जाने केलिए मना था । मन मे डर था कहीं Reject ना कर दें । अभी बारी था इंटरव्यू मतलब मेडिकल के संदर्भ में कुछ पूछताछ करेंगे । दिन भर की मेडिकल जांच के बाद मेडिकल रिपोर्ट में जो कुछ खामियां है उसके बारेमें पूछेंगे और अन्य कुछ जानकारी लेंगे । मेरा नम्बर 35 या 36 था , ठीक से याद नहीं आ रहा था । जब मेरा नम्बर आया में अंदर गया । वहाँ पर दो डॉक्टर बैठे थे । पहले मेरा height और Weight फिर से चेक किया गया । उसके बाद मुझे उनके सामने बैठने केलिए बोला गया ।जब उनके सामने बैठे कुछ प्रश्न किये तथा शरीर मे कुछ घाब के दाग था उसके बारेमें पूछने लगे । उसके बाद ऐसे कुछ प्रश्न किये जिससे में थोड़ा घबरा गया । मेरा BP चेक करने केलिए बोला गया । BP की पारा 130 छू गया । फिर बो मुझे समझाए बोले कि डरो मत !!! हम तो प्रश्न कर रहे हैं । इसमें डरने बाली बात कुछ नहीं है । फिर मुझे कहा गया देश के जवान केलिए आये हो !! डरने से आपको रिजेक्ट कर दिया जाएगा । तब में थोड़ा साधारण अबस्था में आया और मे बोला !! नहीं sir , नहीं डरूंगा । डाक्टर साहब मुझे बोले अभी आप जा सकते हो ।
समय शाम की 7 बजह हमको बोला गया कि आप सब एक जगह बैठे रहेंगे । हमारा एक अफसर आएंगे आपको कुछ बोलेंगे । आप सिलेक्शन हुए या नहीं बो बताएंगे । उसके बाद सबकी हस्ताक्षर लिया गया ।
करीब 08 बजह एक ऑफिसर आया बोले कि आप सभी लड़को को इस फोर्स में स्वागतं है । आप सब हमारे फ़ोर्स के मेंबर बन ने जा रहे हैं । अंदर इतना खुसी महसूस हो रहा था मन कर रहा था वहाँ मन भर के Dance करूँ । उसके बाद उश ऑफिसर ने क्या क्या बोल रहे थे सब सुनाई दे रहा था मगर खुसी से जैसे बहरा(Deaf) हो गए थे । ये महसूस वहां के उपस्तित सारे लड़के के मन मे हो रहा था । आखरी में एक शब्द बोला गया कि 1 लड़का है उसका 18 साल पूरा नहीं हुआ है उसका गलती से सिलेक्शन हो गया है । और उस लड़के का सिलेक्शन किया जाएगा या रिजेक्ट किया जाएगा बह हमारा बोर्ड़ तय करके 10 मिनट में फैसला सुनाया जाएगा । हम उसी जगह बैठे रहे । 10 मिनट के बाद 4 ऑफिसर आये और बोले कि बोर्ड़ ने उश लड़के केलिए एक उपाय निकाला है जिस से उस लड़के को अस्थायी रूप से सिलेक्ट किया जाएगा । परंतु जब उश लड़के को 18 साल हो जाएगा उसको पुनः एक पत्र मिलेगा उसके तहत बह यहां आ कर अपना जोइनिंग लेटर लेके ट्रेनिंग करने जाएगा । उसके बाद सबको जोइनिंग लेटर दिया गया । आदेश दिया गया की आप सबका मार्च 06 से ट्रेनिंग आरंभ होगा इशलिये कोई भी लड़का अपना हात,पेर नहीं तोड़ेगा ना ही एक्सीडेंट होंगे । अपनी शरीर को ध्यान में रखते हुए ट्रेनिंग सेन्टर में समय पे पहुंचेंगे । साथ ही जिस लड़का का अस्थाई रूप से सेलेक्ट किया गया था , उसको भी निर्देश दिया गया अपना शरीर को चोट नहीं पहुंचना चाहिए । इतना बोलकर हमको छोड़ दिये ।
सब बहुत खुश थे एबं भूक भी लग रहा था । मेडिकल की गेट के बाहर आये तो सामने एक समोसा और कुछ फास्टफूड बेच रहा था । देखते देखते उसका सारा सामान खतम हो गया । सब लड़के कुछ खाये और जब ट्रक में बैठे। उसके बाद हर एक लड़का अपने घर में कॉल करके बात करने लगे । ऐसे की सारे लड़के एक साथ बात कर रहे थे । कोई भी लड़का खाली नहीं बैठा था । सब खुसी से अपनी घर मे कॉल करके खुसी जाहिर कर रहे थे । वो समय देखने लायक था की ऐसे लग रहा था जैसे उस बस में कोई बड़ा Conference चल रहा हो । में भी घर मे कॉल करके अपना खुसी जाहिर किया और सिलेक्शन हो गया इसके बारे में बताया । हम सबको बिसरा चोक के पास छोड़ा गया और सब अपने अपने घर या होटल में गए ।
रात को 10 बजह मेरे अंकल के घर पहुंचा तब तक सबकी रात्रि भोजन हो गया था । किंतु मेरे लिए चाची ने फिर से खाना बनाये ।
25 तारीख सुबह हम कुछ दोस्त आगे की टिकट केलिए रेलवे स्टेशन गए । मगर टिकट मिला परंतु वह waiting मिला । शाम को 4 बजह बस लेकर गांब आ गया। 26 फरबरी से लेकर 03 मार्च तक मेरा कैसे दिन निकल गया मुझे पता नहीं चला । उतना दिन में कहीं नहीं गया सिर्फ घर मे रहा और माँ की गौद में सोता था ।
अब बारी आया जाने की 03 मार्च को भुवनेस्वर से ट्रेन था Kota केलिए । क्योंकि हमारा ट्रेनिंग राजस्थान के Deoli में होने बाला था । सही समय पर हम सब दोस्त भुबनेश्वर में पहुंचे और ट्रेन लेकर कोटा केलिए निकल पड़े । waiting टिकट की बजह से हम 4 दोस्त पूरे ट्रैन सफर में कभी लैट्रिन के पास तो कभी किसीके सीट पर मात्र रात में सब लोग अपनी अपनी सीट पर सो जाने के बाद हम लैट्रिन के पास बैठके 2 दीन 2 रात निकाल दिए । कोई भी पैसेंजर लैट्रिन में आता था तो परेशानी होता था । दूसरे दिन रात को 02 बजह कोटा में उतरे । ओडिशा से जितने भी लडके आये थे सब उसी ट्रैन में थे । 2 बजह हम बाहर आ कर deoli केलिए local बस में बैठे सुबह सुबह 6 बजह हम deoli ट्रेनिंग सेन्टर में पहुंच गए थे ।
गेट पर प्रबेश के बाद हमारा नाम के साथ कॉल लेटर को चेक किया जा रहा था । गेट के दक्षिण में एक मैदान था उसमें कुछ लड़के की ट्रेनिंग चल रही थी । फ़ोर्स में कुछ गलती करोगे तो आपके साथ जितने लड़के होंगे सबको दंड मिलता था । सायद कोई लड़का गलती किया होगा इशलिये पूरे प्लाटून को दंड दिया जा रहा था । उसी समय से मन मे डर बैठ गया था कि ट्रेनिंग । परंतु जब ट्रेनिंग सुरु और कैसे खत्म हुआ पता नहीं चला । हम जितने लड़के थे सबको अपनी ऊंचाई के हिसाब से कंपनी में भेज दिया गया । सोचे थे सारे लड़के एक जगह रहेंगे परंतु वहां सबको अलग अलग कर दिया गया और कंपनी के साथ एक Chest Number दिया गया । किसी भी जगह जाओ आपकी पहचान वही Chest Number से जाना जाता था । एक हफ्ते के पश्च्यात हमारी ट्रेनिंग आरंभ हुआ हुआ और सितंबर में खत्म हो गया था ।
दोस्त यह था मेरा ट्रेनिंग तक जाने का सफर । मेरा ये स्टोरी आपको कैसा लगा कमेंट जरूर कीजिये और मेंरे ब्लॉग को Subscribe कीजिये । ट्रेनिंग की कुछ यादें है अगर आपको ट्रेनिंग की कहानी पढ़ना है तो कमेंट में जरूर बताएं।
धन्यबाद

Success Story ( Part-1 )

Success Story ( Part-1 )
Success Story ( Part-1 )

16 फरबरी 2010 को शाम को में गाय केलिए खर लेकर आ रहा था । मेरे गांव को प्रबेश से पहले एक चौकी पड़ता है । उश जगह मेरे भाग्य खोलने बाला ब्यक्ति मेरा इंतजार कर रहे थे । पीछे से आवाज़ आया कोई पत्र(Letter) आया है तुम्हारे नाम पर । मेंने पूछा कहाँ से आया है । तो वो बोले कि “तू फ्रेश होकर घर के सामने आ जा” में इंतजार कर रहा हूँ आने के बाद खुद देख लेना । में हां बोलते हुए गाय को खर देकर जल्दी जल्दी फ्रेश हो कर घर के सामने आया । बह ब्यक्ति के चेहरे पर थोड़ा मुस्कान था । बह मुस्कान देख कर मेरे चेहरे पर भी थोड़ा मुस्कान आया । में पूछा बताओ तो क्या है पत्र ? बो पत्र को मेरे हाथ मे थमाते हुए बोले की यह तीसरा पत्र है । में क्या बोलूं तू ही खोल और बता क्या है ये ? इस से पहले भी 02 लेटर समान पते से मुझे प्राप्त हुआ था । पत्र को खोला और कुछ शब्द को पढ़कर इतना खुस हुआ जैसे कि मेरे चेहरे में रौनक आ गया । बह था मेरा Medical Examination की आमंत्रण पत्र । में इतना जानता था कि में मेडिकल परीक्षा में विफल नहीं हो सकता । इसलिए मेरे अपने ऊपर भरोसा था ओर खुसी के मारे नाचने को मन किया था । सामने बैठा ब्यक्ति हमारे गांब के पोस्ट मास्टर थे । उनको बहुत धन्यवाद दिया । क्योंकि उश समय मेरे भाग्य लेकर आने बाला ब्यक्ति वही थे । बो भी बहुत खुस हुए । बह एक शब्द बोले कि मुझे लगा कि कोई अति महत्वपूर्ण पत्र होगा इशलिये बह उसको आज ही लेकर आये। इतना बोलकर पोस्ट मास्टर जी अपने गांब की और प्रस्थान किये ।

अगले दिन 17 तारीख मेरा BA Last Year की आखरी Paper था । परंतु मेरा मन तो आमंत्रित पत्र पर था । परीक्षा कैसे गया और क्या लिखा मुझे ठीक से याद नहीं फिर भी परिक्षा मेरा अच्छा हुआ था । मेरे पास सिर्फ 05 दिन था और उसी 05 दिन के अंदर एक दिन इतवार भी था बचा 04 दिन में कुछ कागजात इकठ्ठा करना था । जो तहसीलदार और पुलिस स्टेशन तथा जिलापाल कार्यालयों से इकठ्ठा करना था । आप जानते होंगे इस कार्यलयों में काम जल्दी होता नहीं है फिर भी मेरा भाग्य मेरा साथ दिया था ।
18 तारीख को में पुलिस स्टेशन पर गया जो कि मुझे अपनी Personal Verification करना था । Verification यह कि मेरे ऊपर कोई गैर कानूनी मुकदमा तो नहीं चल रहा है या पहले हुआ है । किसी भी सरकारी नौकरी होने से पूर्ब यह कागजात आपको इकठ्ठा करना पड़ता है तो उस दिन सुबह 10 बजह पुलिस स्टेशन पहुंच गया । मेरे हाथ में अपना आमंत्रित पत्र तथा Blank Police Verification Letter को लेकर पुलिस स्टेशन के अन्दर प्रबेश किया । मन मे डर रहते हुए जीबन काल मे पहली बार पुलिस स्टेशन में प्रबेश कर रहा था । अंदर दो पुलिस के जवान कुछ लिख रहे थे । मुझे पूछे क्या हुआ भाई मेने दोनों पत्र उनको दिखाते हुए कहा कि श्रीमान मुझे अपनी पुलिस Verification करना है । दोनों जवान मेरे चेहरे को बार बार देखें और बोले कि जाओ बाहर जो बेंच है उसमें बैठो हम जब बुलाएंगे तब आप आओगे । उनकी जबाब के बाद में बाहर बेंच में आकर बैठ गया । सुबह 10.00 बजह से लेकर दोपहर 4.00 बजह तक कई बार उनके पास गया । मुझे बही उत्तर मिलता था जाओ बाहर बैठो आपको हम बुलायेंगे । मन तो कर रहा था चला जाऊं अपनी गांब ! सरकारी नौकरी केलिए इतना तंग होना पड़ता है !!! फिर मन को शांत करके बोलता था थोड़ा संयम रख इतना मेहनत के बाद ये मिला है उसको ऐसे जाने देगा क्या?? ठीक है कब तक बिठाएंगे रात भी हो जाये आज Sign करके ही जाऊंगा । 4.05 में एक हाबिलदार मेजर स्टेशन में प्रबेश करने से पहले उनकी नज़र मेरे ऊपर पड़ा । मुझे इसारे से पूछे कहाँ और यहां क्यों बैठे हो ?? उनकी इसारा का जबाब देते हुए अपना आमंत्रित पत्र तथा Verification पत्र दिखाया । तो बह बोले यहां क्यों बैठे हो ?? अंदर आकर Sign करके जाओ अपने गांब । उनकी ये बात सुनकर मेरे दिल मे कुछ समय केलिए खुसी महसुस हुआ । हाबिलदार मेजर को बोला की में कई बार अंदर Sign करने केलिए आया हूँ परंतु बो दोनों Sir मुझे यह बोलते हैं कि आपको हम बुलाएंगे आप बाहर बैठो । फिर हाबिलदार मेजर ने मुझे पूछे की आप कब आये ? मेने कहा श्रीमान में सुबह 10 बजह से यहाँ बैठा हूँ । इतना सुनकर बह थोड़ा गुस्से में उन जवान को बोले “क्यों भी इनका काम क्यों नहीं कर रहे हो” । बाद में मुझे अंदर बुलाया गया और मेरा नाम तथा मेरे बारें मे जानकारी लिया गया और पूछा गया कि कोई गैर कानूनी काम किये हो क्या या कोई राजनीति पार्टी के साथ घूमते हो क्या ?? तथा बहुत सारे प्रश्न पूछे । उन्होंने मेरा नाम उनकी रेजिस्टर में दर्ज किये तथा SHO Sir के चैम्बर में जाने केलिए बोले और आदेश दिया कि जो जो सबाल हम आपको किये बही सबाल SHO Sir पूछ सकते हैं तो सही सही जबाब देना नहीं तो कोई Sign नहीं कराएंगे । उनकी आदेश का पालन करते हुए चैम्बर के अंदर गया । बहां SHO Sir के साथ और एक आदमी बैठे थे । मे उनको सम्मान देते हुए अंदर प्रबेश किया । SHO Sir ने मुझे प्रथम प्रश्न पूछे कि “आप आखरी बार police स्टेशन कब आये थे” तो मैने जबाब दीया Sir में आज पहली बार आया हूँ । दूसरा प्रश्न नहीं था एक सलाह था “आप एक देश के जवान बन ने जा रहे हो ” देश का नाम ऊंचा रखना । इतना सुन कर में बहुत खुश हुआ । Sir मुझे Pen मांगे और मेरे Pen से Verification पत्र पर Sign किये । दिन भर भूका था जब आखरी में SHO Sir की सलाह सुनकर दिल को थोड़ा सुकून मिला और मन मे एक अलग सी आशा जागने लगा था ।
तीसरा दिन मेरा तहसीलदार कार्यालय में Central OBC Certificate में Sign की जरूरत था । बह कार्य भी हुआ परंतु दोपहर के बाद हुआ क्योंकि तहसीलदार साहब कार्यालय से बाहर थे । आखरी में जिल्लापाल कार्यालय में कागजात बाकी रह गया । परंतु शनिबार होने हेतु काम होगा या नहीं होगा मन में डर बिठाकर जिल्लापाल कार्यालय में गया मगर बहां भी बहुत आदमी कतार में खड़े थे । परंतु उश जगह भी सही बक्त पर कागजात पर Sign हो गया ।
22 तारीख को शाम को बस से Rourkela की और निकल पड़ा और दूसरे दिन सुबह पहुंचा । अगले दिन सुबह यानी कि 24 feb को मेरा medical Examination था और सुबह Recruitment की गेट पर सही समय पर पहुंच गया था।
बाकी की कहानी में अगले Blog में लेकर आऊंगा । वह भी बहुत मजेदार कहानी है । मुझे पता है आप जरूर पढ़ेंगे परंतु इस से पूर्ब मेरा Blog को आप follow करना पड़ेगा तब आपको Email में Notification आएगा और बाकी की कहानी को आप आसानी से पढ़ पाएंगे ।
दोस्तो एक सबाल था आपसे की असल मे उश दिन भर मुझे पुलिस स्टेशन पर क्यों बैठना पड़ा । वह दोनों जवान मेरे साथ ऐसा ब्यबहार क्यों किये ??? अगर वह चाहते तो मेरा काम 10 मिनट में कर सकते परंतु सुबह 10.00 बजह से दोपहर 04.00 बजह तक बिठाके रखने का क्या तात्पर्य था ???
आपके पास इसका जबाब है तो Comment Box में जरूर बताएं !!
Follow the links

Eng(5) Shimla, Kullu and Manali

The Tour of Shimla, Kullu and Manali.
Fifth/Last day
We woke up early in the morning because we had planned to visit the apple garden near the hotel. We spend more time in the apple garden. After roaming the garden we check out the hotel and start the tour towards the Bashisht Banu temple. There was a hot water spot nearby. There is a waterfall some distance away from the place where some people returned but after knowing its distance, we came back from halfway. Buy some goods from there and then we spend a lot of time on the banks of Beas river on the way. At 03 PM went to Mall Road to spend some time with enjoyed the light sunshine. In the evening, 4 o’clock arrived at the Bus Stand for Volvo Bus. we had got 31,32 Volvo Bus tickets. The bus ticket was already booked by the ITO agency. we gave thanks to ITO representative Babita Sharma and gave feedback for the entire tour. There was a doubt in my mind not to vomit during the tour. The conductor had given us polyethylene. If vomiting occurs, the Bus should not be dirty. Volvo was also given water bottles with blankets. We both slept in the evening for fear of vomiting and we did not eat anything at night when the car stopped for Dinner. We slept around 10-11 hours on that day.
The entire Arrangement of the Tour was done by ITO agencies. Tour was very good and awesome. There was a complaint against the driver, we speaking daily for car cleaning. But in the 5-day journey, he cleaned his car only on the last day, after repeated complaints. We gave many many thanks to Miss Babita Sharma after the tour. she had supported us everywhere and I noticed one thing in Miss Babita Sharma. Whenever I used to call she would laugh and say “yes”, she never refused any request of us with never angry and show the way to the solution. One thing my Wife said that time “when our children plan to hang out after marriage, they will contact a representative like Babita Sharma and send them to the Tour”.

How did you like our tour? So friends please give the feedback on the above tour. If you are thinking to go to Shimla and Kullu Manali so call the ITO representative Miss Babita Sharma.

India Travels online Information

Email.

babitasharma.ito@gmail.com (Babita Sharma)
indiatravelsonline@gmail.com(Official Email)
Some of Fifth day Tour Photos:-
The Tour of Shimla, Kullu and Manali (5th Day)
plucking apple
The Tour of Shimla, Kullu and Manali (5th Day)
Beas river
The Tour of Shimla, Kullu and Manali (5th Day)
Meditation at Beas river
The Tour of Shimla, Kullu and Manali (5th Day)
style
running at the bank of the river
Follow My Pages:-
Thanks…
The_Tour_of_Shimla,_Kullu_and_Manali_5th_day

अतीत के तीन दिन ( Past Three days of my life)

दिनांक 23 मार्च 2013 को दोपहर 02 बजह खाना खा कर थोड़ी देर बिश्राम करने केलिए अपने बिस्तर पर गया । मन ठीक नहीं लग रहा था । Movie देखने केलिए मोबाइल निकाला जिसको आधा देख चुका था और आधा movie बाकी था और बह मुम्बई Terrorist अटैक पर फिल्माया गया था । मूवी का नाम “The Attack of 26/11″ । मूवी खतम होने के बाद मुझे कुछ अलग सा अनुभब हुआ और मूवी के अंदर भी दर्दनाक मौत देखकर बहुत दुखी हो रहा था । मूवी को बंद करके दूसरे मोबाइल की और देखा और उसमें 30 Missed Calls थे ओर वो slow sound होने पर मुझे सुनाई नहीं दिया था । उसमे कुछ मेरे सारे दोस्त और कुछ चचेरे भाई ने कॉल किये थे । में घबरा गया और सोचने लगा कुछ बुरा तो नहीं हुआ है। उसमे मेरा दोस्त अक्षय का कॉल आया था जो मेरे गांव का दोस्त है उसको कॉल लगाया। में कुछ पूछने से पहले वो पूछने लगा ” कैसा है तू ? ” में बोला ठीक हूँ । फिर वो पूछा कि कुछ खबर सुना है क्या ? मैंने बोला नहीं तो !!! मेंने कुछ नहीं सुना और क्या हुआ है ? मेने पूछा ?? तो अक्षय ने बोला कि तुम्हारा जीजा जी का एक्सीडेंट हुआ है !!! में घबरा कर पूछा कब ? और कैसे हुआ ? और कहां हुआ है ? तो उसने बोला में भी अभी अभी सुना हूँ कि आपके जीजा जी और सुरेश भाई मिलकर भंजनगर गाड़ी खरीदने गए थे वहां एक्सीडेंट हुआ है । मुझे इतना ही खबर मिला है बाकी हम निकल रहे है उनको देखने केलिए बहां पहुंचकर बाकी का खबर बताता हूँ । इतना बोलकर बो फ़ोन काट दिया। ये बात सुनकर मेरे पैरों के नीचे जमीन खिसक गई । असली एक्सीडेंट क्या हुआ है ये पता नहीं था ? इसलिए में मेरे पापा को फ़ोन किया । पापा फ़ोन उठाये परंतु वो भी रो रहे थे और बाइक चलाकर एक्सीडेंट कि जगह पर जा रहे थे । मेरा तनाब बढ़ता जा रहा था । उसके तुरंत बाद मेरा और एक दोस्त सागर फ़ोन किया और बोला कि आपको पता है कि नहीं एक्सीडेंट के बारे में? तबतक मेरे आंखों में आशु गए थे । में पूछा क्या हुआ बताओ यार ? कोई मुझे ठीक से नहीं बता रहा है । सागर बोला घबराओ मत ! में सब कुछ बताता हूँ , क्या हुआ है ? क्योंकि मेरा छोटा भाई तपन वहां मौजूद था वो मुझे सब कुछ बोला है । पहले पहले वो आपके जीजू को नहीं पहचान पाया परंतु बाद में उसको पता चल गया और मुझे घटना के बारे में सब कुछ बताया। सागर बोला समय करीब 12.30 बजह आपकी जीजू और आपके गांब के और एक भैया भंजनगर आये थे और साई मंदिर से 200 मीटर की दूरी पर रोड के किनारे पेड़ के नीचे मोबाइल से बात कर रहे थे । एक ट्रक जो कि हाईवे पर जा रहा था अचानक ट्रक की बेरिंग टूटने के कारण ड्राइवर गाड़ी को काबू में नहीं कर पाया और उन दोनों के ऊपर ट्रक चढ़ा गया । मौके पर आपकी जीजा जी की मौत हो गई है और साथ मे जो भैया थे उनको गंभीर हालत में मेडिकल में भर्ती कराया गया है और डॉक्टर भी बोल रहे है उनके सिर पर चोट लगी है वो भी नहीं बचेंगे । यह बात सुनकर जैसे मुझे बहुत जोर से बिजली की झटका लगा और चारपाई के बगल में कैसे गिरा मुझे पता नहीं चला । कुछ समय केलिय में सुन्न हो गया और मेरे हात पेर काम नहीं कर रहे थे। फ़ोन पे हेलो हेलो की आवाज़ आ रहा था और मुझे बुलाने की आवाज़ भी आ रहा था । मुझे उसकी आवाज़ तो सुनाई दे रहा था मगर मेरे जुवान से एक भी लब्ज़ नहीं निकल रहा था !! कुछ मिनट तक मुझे ऐसे लगा कि जैसे मेरे शरीर में जान ही नहीं है । करीब 2 मिनट के बाद में उसकी आवाज़ का उत्तर दिया । सागर बोला कि अपने आप पे कंट्रोल रखो और शांति दिमाग से काम करो , इतना सुनकर में फ़ोन रख दिया। बात खत्म हुआ और मेंरा रोना सुरु हो गया मेरा रोने की आवाज़ सुनकर रूम में बाकी दोस्त सो रहे थे वो भी उठ कर मेरे पास आकर मुझे पूछने लगा ? में रोते रोते सब कुछ बोला और बो मुझे समझाये । समय करीब 3.00 बज चुका था । अपने आप को संभालते हुए मेरे यूनिट कमांडर को कॉल करके सारी बाते बोलने लगा । मेरे यूनिट कमांडर श्री बिधान भंडारी थे वो बहुत अच्छे आदमी थे मेरे बातों को सुनकर वो तुरंत बोले कि आप छूटी की दरखास्त भर कर गांब केलिए निकल जाओ । मेरे दिमाग काम नहीं कर रहा था । मेरे ऊपर ऑफिसर श्री चितरंजन और साथ मे प्रविण कुमार और लिजू साहब को भी बताया । सब लोग मुझे मदद किये मुझे यूनिट से तुरंत गाड़ी दिया गया और में एयरपोर्ट केलिए निकल गया । समय 3.30 हो चुका था। अगर मुझे by Road जाना है तो चार दिन लगेगा घर पहुंचने मे । उस दिन मौसम खराप होने के कारण evening फ्लाइट को रद्द किया गया था । में बापस यूनिट में आया मगर मुझे कहीं मन नहीं लग रहा था । उशी रात में जैसे एक पत्थर बन गया था । खाना भी ठीक से नहीं खाया । एक पल केलिए नींद नहीं आया मेरे आंखों में सिर्फ बहन की याद आ रही थी की बो किस हालात में होगी। जीजा जी की बात याद करके रो रहा था । रात कैसे निकल गया पता नहीं चला ।
24 तारीख सुबह एयरपोर्ट तक यूनिट से मुझे गाड़ी दिया गया । 07 बजह फ्लाइट लेकर में दिल्ली केलिए रबाना हुआ और मुझे आगे हैदराबाद जा कर फिर विजयवाड़ा में उतरना है । क्योंकि मुझे Direct भुबनेस्वर तक फ्लाइट नहीं मिला और में जब भी में घर जाता था भुबनेस्वर हो कर उतरके घर जाता था । मगर मेरा नसीब में भुबनेस्वर वाला फ्लाइट नहीं था । 3 फ्लाइट में सफर करके शाम को 3.30 बजह विजयवाड़ा में उतरा। एयरपोर्ट से मैन हाइवे दूर में था 1 किलोमीटर से ज्यादा था । एक कार बाले को लिफ्ट मांगा मगर वो मुझे ऐसे देखा जैसे में लिफ्ट नहीं उसका किडनी मांग रही हूँ । सुबह से कुछ नहीं खाया था । मुझे भूक तो लग रहा था मगर खाने की इच्छा नहीं था । वहां से पैदल हाईवे तक पहुंच गया और में पहले से ही एयरपोर्ट में सिक्योरिटी से पूछ लिया था रेलवे स्टेशन कैसे जाना है और वो मुझे बता दिए थे । फिर भी में सही दिशा जा रहा हूँ या गलत दिशा की और जा रहा हूँ Confirm करने केलिए बहां के एक आदमी को पूछा । वो आदमी मुझे बिना जवाब दिए चला गया । विजयवाड़ा में हर जगह तेलुगु बोलते हैं मगर मुझे तेलुगु नहीं आता था । में इंग्लिश एबं हिंदी में पूछ रहा था । 25-30 मिनिट के बाद एक सिटी बस आया और बस कंडक्टर को पूछा क्या ये बस रैलबे स्टेशन को जा रहा है क्या ? कंडक्टर मेरी language को समझ गया और बोला “Yes !! Yes !! come in” । रेलवे स्टेशन पहुंच कर पता लगाया कि ब्रह्मपुर केलिए रात को 08 बजह ट्रैन है । टिकट केलिए काउंटर के पास देखा तो वो बंद हो चुका था । तो में General टिकट ले लिया । दो दिन से कुछ खाना नहीं खाया था इसलिए कुछ खाने केलिए स्टेशन से दूर एक होटल में गया। उश होटल की गंदगी देख कर मुझे उल्टी आ रहा था । फिर भी अनदेखा करके खाना खा लिया और स्टेशन में इंतज़ार किया । मगर तबियत ठीक ना रहने के कारण जो भी कुछ खाना खाया था कुछ देर के बाद सब उल्टी हो गया । अभी फिर से पेट खाली हो गया । ट्रैन आने का समय हो चुका था इसलिए कुछ भी नहीं खाया और ट्रेन के sleeper डिब्बे में चढ़ गया । ट्रैन में बहुत भीड़ थी मगर कुछ स्टेशन के बाद लोग उतर गए । TTE ने मेरा टिकट चेक किया और बोला की आप General डिब्बे में जाओ तो में उनको request किया कि मेरा तबियत ठीक नहीं है और में इमरजेंसी छूटी जा रहा हूँ अगर किसी जगह सीट हो सकता है तो adjust कर दीजिए । TTE मेरे चेहरे को देखकर थोड़ा मुस्कुराया और बोला रुको में उधर से देख कर आता हूँ । कुछ देर के बाद TTE बापस आया मुझे बोला कोई सीट नहीं है ऐसे ही आप adjust करलो । में TTE sir को Thank you बोला । रात को 10 बजह एक नमकीन बेचने बाला आया और एक Kurkure की पैकेट लिया और उश रात की खाना उतना ही था । 12 बजह सब सोने जा रहे थे, स्लीपर की शटर उठाकर सब लोग सोने लगे और जिसके सीट में बैठा था वो भी मुझे वहाँ से जाने केलिए कहा । ऐसे ब्याबहार किया जैसे की में एक चोर हूँ । में कुछ नहीं बोला वहां से उठकर लैट्रिन के पास आ कर खड़ा हो गया । मेरा एक ही हैंड बैग था। उसे सीट के नीचे रखा था । मगर वो आदमी मुझे बोला कि ये बैग किसका है यहां से ले जाओ नहीं तो फेक दूंगा। गुस्सा तो आ रहा था फिर भी शांत दिमाग से पूछा भैया जगह तो ज्यादा है ! इसमें क्या परिसानी है ?? । वो बोला आप उठाओ अपना बैग और अपने साथ रखो यहां हमारा बैग रहेगा, इधर उधर हो सकता है। इतना सुनकर में बोलने लगा आप अपना बैग को चैन से लॉक किये हो फिर भी कोई ले जाएगा । इतना बोलने के बाद वो आदमी गुस्से हो कर बोला आप यहां से जाओ !!! में ऐसे ही दुखी था ,सोचा एक रात गुजारना है फिर सुबह बरहमपुर पहुंच जाऊंगा । किस लिए उसके मुहं लगूं? ये सब घटना ऊपर सीट में बैठा एक 17 साल का लड़का देख और वो अपने परिबार के साथ सफर कर रहा था । वो मुझे वोला भैया आप ऊपर आ जाइये और हम दोनों बैठ जाएंगे । मुझे लगा कि चलो कोई तो मेरा दुखी मन को महसूस किया । में ऊपर आया और एक ही सीट पे दोनों adjust करके बैठ गए । कुछ देर मेरे साथ बात करने के बाद उस लड़के को पता चला कि में फ़ोर्स में हूँ । और बो बहुत खुश हो गया और पूछा ” भैया मुझे फ़ोर्स वाले लोग बहुत पसंद है ” वो बोला मेरा इच्छा था कि किसी फ़ोर्स बाले आदमी से में बात करूँ और उनके साथ हाथ मिलाऊं। इतना बोलकर हाथ बढ़ाया और उसके साथ हाथ मिलाया । वो मुझे अनुरोध किया कि भैया में आप की ID Card देख सकता हूँ क्या ? में बोला ! हाँ जरूर देख सकते हो । अपना ID card दिखाया और देखते देखते कहा कि भैया मेरा भी एक सपना है कि ऐसे परिचय पत्र मेरे नाम का हो ?? मेने बोला कोशिस करो जरूर सफल हो जाओगे । मेहनत करो और दौड ते रहना, जो भी भर्ती निकलता है उसको आबेदन करो । कुछ देर बात करने के बाद हम सो गए ।
सुबह 5.30 बजह नींद टूटा और देखा मेरा स्टेशन आने वाला था अपना सामान लेकर में नीचे आ गया । बो लड़का दुखी हो कर पूछा आपका स्टेशन आ गया क्या ? मेने जबाब दिया , आधा घंटे में पहुंच जायेगा । 6.15 में बरहमपुर रेलबे स्टेशन में उतरा । वो लड़का थोड़ा दुःखी होते हुए मुझे Bye कहा । बस स्टैंड पे आया । वहां से बुगुड़ा यानी मेरे घर के नजदीकी बस स्टॉप तक गाड़ी जाता है । बस में बैठा और रास्ते मे असिका नाम का एक जगह है । बहां गाड़ी कुछ देर तक रुकता है और फिर आगे केलिए निकलता है । बहां जब गाड़ी आगे केलिए निकला तब खिड़की से बाहर देखा कि मेरा ऊपर बाले भैया रोड के ऊपर खड़े होकर गाड़ी का इंतज़ार कर रहे थे । बो North East जोन में फ़ोर्स की नौकरी करते है । भैया भी 24 तारीख को निकले थे । में गाड़ी के अंदर से ही आवाज़ लगाया और भैया आये और हम दोनों बुगुड़ा के लिए निकल पड़े । भैया भी उसी दिन सुबह सुबह ट्रैन से उतरकर बरहमपुर से असिका तक आएं और उनको आगे केलिए गाड़ी नहीं मिल रही थी ।
3 घंटे के बाद बुगुड़ा बस स्टॉप आने बाला था । हम दोनों पहले से ही उतर गए क्यों कि हमारे गांब जाने केलिए रास्ता पहले आता है । हम पैदल 300 मीटर तक चलने के बाद हमारे गांब के एक ऑटो बाला भैया हम दोनों को देखे और वो हमको गाड़ी में बिठाए । उसी दौरान मेरे पापा भी बाइक लेकर पहुंच गए। बाइक में दोनों केलिए जगह नहीं था इसलिए हम ऑटो में बैठ कर घर तक आये ।
2 दिन बीत चुका था यानी कि 25 तारीख को में गांब में पहुंचा । दोपहर 2 बजह करीब हम तीनो मेरे बहन की गांब केलिए निकल पड़े ,मेरे घर से वो गांब 10 किलोमीटर की दूरी पर है । गांब का बाताबरण बिल्कुल शांत हो पड़ा था । उशी शांत बाताबरण कह रहा था कि कोई अनमोल चीज़ खो दिया है । सबके मन मे जीजा जी की जाने की दुःख था । क्यों कि जीजा जी हसमुख स्वभाब के आदमी थे और बो दूसरे को सहायता करने केलिए पहले कदम रखते थे। लोगों के आंख में आँसू और घर के बाहर बैठे लोगों ने हम को देख कर फिर से रोने लगे । उनको समझाके हम घर के अंदर आये । घर के एक कोने में मेरी बहन बैठी थी और साथ मे घर की महिलाएं भी बैठे थे । उसी बक्त उसके लिये कुछ खाने केलिए दिया गया था परंतु बह मना कर रही थी। अचानक मेरी बहन की नजर मेरे ऊपर पड़ी मुझे जब देखा तो वो मुझे गले लगाके फिर से रोना शूरू कर दिया। उसकी रोना देख कर मुझे भी रोना आया और में भी बहुत रोया । दो दिन से कुछ नहीं खायी थी। उसको समझाकर खाना खिलाया । और बाकी जो काम था उसमें मदद किये तथा 12 दिन तक जो भी कर्म होता था उसमें मदद करके आखरी में बहन को अपने गांब लेके आ गए थे । अभी दोनों बच्चे की पढ़ाई केलिए वो बुगुड़ा में रहते हैं।
याद करता हूँ वो तीन दिन मेरे लिए दुख और कष्ठ जनक दीन था और बहन की दुख कभी खत्म नहीं होगी ये सोच कर कभी कभी तो बहुत दुःखी हो जाता हूँ ।
कहानी तो कभी खतम नहीं होगी इसलिए कहानी को आगे ना लेकर यहां समाप्त करता हूँ । अच्छा लगे या कोई भी बात पूछना चाहते है तो पूछ सकते है । मेरा या सच्ची कहानी आपको पसंद आया है तो सबको ये लिंक शेयर कीजिये ।
ऐसे ही पढ़ते रहिये और आगे भी बहुत ब्लाग अपलोड करूँगा मेरे साथ रहिये ।
आप अपना Email ID सब्सक्राइब बटन पे दे सकते है । जब में नई ब्लॉग अपलोड करूँगा आपको तुरंत एक ईमेल आएगा और आप उसको पहले पढ़ सकते है ।

धन्यबाद ।।