Tag Archives: #sucess of force

Success Story (Part – 2)

Success Story  (Part - 2)
Success Story (Part – 2)
#Sucess Story (Part – 2)
24 तारीख सुबह 6.00 बजह रेपोटिंग था । परंतु में सुबह 5.30 बजह पहुंच चुका था और यह सब संभब हो रहा था केबल मेरे अंकल की बजह से । मेरे अंकल के बारे में थोड़ा जानकारी दे देता हूँ । वो मेरे गाँव के अंकल है (Mr. Ashok Kumar Nanda) जो पिछले कई सालों से अपनी परिबार के साथ Rourkela में आ कर रह रहे हैं । जब से मेरा Rourkela में selection process चलति आ रही है तब से उन्होंने मेरे लिये बक्त निकाल कर मुझे जाने आने तथा उनके घर मे रहने का बंदोबस्त किये थे । किसि तरह कोई भी असुविधा होने पर अंकल मुझे सलाह के साथ मदद भी करते थे । जब जरूरत पड़े बहां आकर खड़े होते थे । सुबह सुबह कड़ाके की ठंड में भी वो मुझे Recruitment Camp में छोड़ने जाते थे । उनकी मदद को में कभी नहीं भूल पाऊंगा । उनकी घर में प्रबेश के बाद सोचा था की मुझे अतिथि जैसे सेबाएं प्रबंध किया जाएगा परंतु बहां मुझे बेटे जैसे सम्मान दिया गया । जितना सम्मान उन्होंने मुझे दिए थे उतना सम्मान मेरे कोई अन्य रिस्तेदार के घर से नहीं मिला था । उनकी जितना भी तारीफ करूँ तो कम पड़ेगा । उनकी नम्र ब्यबहार आज तक वैसा ही है । पहला सिलेक्शन से लेकर आखरी तक बो मेरे साथ थे ।
Rourkela बिसरा कैम्प में हमको पहुंचना था । वह दिन खुसी तथा भाग्य बदलने बाला दिन था । 06.00 बजते ही एक एक करके सबकी मेडिकल call Letter जांच तथा नाम के साथ प्रबेश किया जा रहा था । एक जवान आये हमको एक लाइन में खड़े होने का आदेश दिए और क्या करना है और कहां जाना है उसके बारे में दिशा निर्देश किये तथा हमको सुभकामनाये दिए। आखरी में एक शब्द बोले और उश शब्द को सुनकर जितने भी लड़के गेट के अंदर प्रबेश किये थे सबके मुख में रौनक के साथ खुसी भर गया । बो शब्द था कि ” यह गेट आपकी भाग्य रेखा खोलेगी , जो भी लड़का यह गेट में कदम रखा बह आज यहां से नौकरी का कॉल लेटर अपने साथ लेकर जाएगा और जो नहीं आया उसका नसीब खराब हैं। ” इशलिये जो में बोलता हूं उसी तरह काम कीजिये । कोई भी लड़का बिना बताये कहीं नहीं जाएगा । जहां भेजा जाएगा एक एक करके जाएंगे और अनुसाशन का पालन करेंगे । कुछ मिनट के बाद एक ट्रक आया और हमको ग्राउंड में लिया गया । बहां पर हमारा फ़ोटो शूट किया गया और कुछ डॉक्यूमेंट चेक करके मेडिकल जांच हेतु लिया गया ।
मेडिकल में हम 08 बजह पहुंच गए थे । पहले हमको अपना यूरिन तथा Blood देने केलिए बोला गया । सारे लड़के एक एक करके blood एबं urine लैबोरेटरी में submit किये । फिर हमको X-Ray टेस्ट केलिए लिया गया । उसके बाद Eye,Ear, Body Parts, Body Scratching, Vein test Etc.. टेस्ट किया गया । समय का अंदाज़ा नहीं था । दिन निकल गया देखते देखते 04 बज गया । उस दिन 40 से अधिक लड़के को मेडिकल जांच हेतु बुलाया गया था । सबको भूक लग रहा था और कोई पूछता है तो उनको बाहर जाने केलिए मना था । मन मे डर था कहीं Reject ना कर दें । अभी बारी था इंटरव्यू मतलब मेडिकल के संदर्भ में कुछ पूछताछ करेंगे । दिन भर की मेडिकल जांच के बाद मेडिकल रिपोर्ट में जो कुछ खामियां है उसके बारेमें पूछेंगे और अन्य कुछ जानकारी लेंगे । मेरा नम्बर 35 या 36 था , ठीक से याद नहीं आ रहा था । जब मेरा नम्बर आया में अंदर गया । वहाँ पर दो डॉक्टर बैठे थे । पहले मेरा height और Weight फिर से चेक किया गया । उसके बाद मुझे उनके सामने बैठने केलिए बोला गया ।जब उनके सामने बैठे कुछ प्रश्न किये तथा शरीर मे कुछ घाब के दाग था उसके बारेमें पूछने लगे । उसके बाद ऐसे कुछ प्रश्न किये जिससे में थोड़ा घबरा गया । मेरा BP चेक करने केलिए बोला गया । BP की पारा 130 छू गया । फिर बो मुझे समझाए बोले कि डरो मत !!! हम तो प्रश्न कर रहे हैं । इसमें डरने बाली बात कुछ नहीं है । फिर मुझे कहा गया देश के जवान केलिए आये हो !! डरने से आपको रिजेक्ट कर दिया जाएगा । तब में थोड़ा साधारण अबस्था में आया और मे बोला !! नहीं sir , नहीं डरूंगा । डाक्टर साहब मुझे बोले अभी आप जा सकते हो ।
समय शाम की 7 बजह हमको बोला गया कि आप सब एक जगह बैठे रहेंगे । हमारा एक अफसर आएंगे आपको कुछ बोलेंगे । आप सिलेक्शन हुए या नहीं बो बताएंगे । उसके बाद सबकी हस्ताक्षर लिया गया ।
करीब 08 बजह एक ऑफिसर आया बोले कि आप सभी लड़को को इस फोर्स में स्वागतं है । आप सब हमारे फ़ोर्स के मेंबर बन ने जा रहे हैं । अंदर इतना खुसी महसूस हो रहा था मन कर रहा था वहाँ मन भर के Dance करूँ । उसके बाद उश ऑफिसर ने क्या क्या बोल रहे थे सब सुनाई दे रहा था मगर खुसी से जैसे बहरा(Deaf) हो गए थे । ये महसूस वहां के उपस्तित सारे लड़के के मन मे हो रहा था । आखरी में एक शब्द बोला गया कि 1 लड़का है उसका 18 साल पूरा नहीं हुआ है उसका गलती से सिलेक्शन हो गया है । और उस लड़के का सिलेक्शन किया जाएगा या रिजेक्ट किया जाएगा बह हमारा बोर्ड़ तय करके 10 मिनट में फैसला सुनाया जाएगा । हम उसी जगह बैठे रहे । 10 मिनट के बाद 4 ऑफिसर आये और बोले कि बोर्ड़ ने उश लड़के केलिए एक उपाय निकाला है जिस से उस लड़के को अस्थायी रूप से सिलेक्ट किया जाएगा । परंतु जब उश लड़के को 18 साल हो जाएगा उसको पुनः एक पत्र मिलेगा उसके तहत बह यहां आ कर अपना जोइनिंग लेटर लेके ट्रेनिंग करने जाएगा । उसके बाद सबको जोइनिंग लेटर दिया गया । आदेश दिया गया की आप सबका मार्च 06 से ट्रेनिंग आरंभ होगा इशलिये कोई भी लड़का अपना हात,पेर नहीं तोड़ेगा ना ही एक्सीडेंट होंगे । अपनी शरीर को ध्यान में रखते हुए ट्रेनिंग सेन्टर में समय पे पहुंचेंगे । साथ ही जिस लड़का का अस्थाई रूप से सेलेक्ट किया गया था , उसको भी निर्देश दिया गया अपना शरीर को चोट नहीं पहुंचना चाहिए । इतना बोलकर हमको छोड़ दिये ।
सब बहुत खुश थे एबं भूक भी लग रहा था । मेडिकल की गेट के बाहर आये तो सामने एक समोसा और कुछ फास्टफूड बेच रहा था । देखते देखते उसका सारा सामान खतम हो गया । सब लड़के कुछ खाये और जब ट्रक में बैठे। उसके बाद हर एक लड़का अपने घर में कॉल करके बात करने लगे । ऐसे की सारे लड़के एक साथ बात कर रहे थे । कोई भी लड़का खाली नहीं बैठा था । सब खुसी से अपनी घर मे कॉल करके खुसी जाहिर कर रहे थे । वो समय देखने लायक था की ऐसे लग रहा था जैसे उस बस में कोई बड़ा Conference चल रहा हो । में भी घर मे कॉल करके अपना खुसी जाहिर किया और सिलेक्शन हो गया इसके बारे में बताया । हम सबको बिसरा चोक के पास छोड़ा गया और सब अपने अपने घर या होटल में गए ।
रात को 10 बजह मेरे अंकल के घर पहुंचा तब तक सबकी रात्रि भोजन हो गया था । किंतु मेरे लिए चाची ने फिर से खाना बनाये ।
25 तारीख सुबह हम कुछ दोस्त आगे की टिकट केलिए रेलवे स्टेशन गए । मगर टिकट मिला परंतु वह waiting मिला । शाम को 4 बजह बस लेकर गांब आ गया। 26 फरबरी से लेकर 03 मार्च तक मेरा कैसे दिन निकल गया मुझे पता नहीं चला । उतना दिन में कहीं नहीं गया सिर्फ घर मे रहा और माँ की गौद में सोता था ।
अब बारी आया जाने की 03 मार्च को भुवनेस्वर से ट्रेन था Kota केलिए । क्योंकि हमारा ट्रेनिंग राजस्थान के Deoli में होने बाला था । सही समय पर हम सब दोस्त भुबनेश्वर में पहुंचे और ट्रेन लेकर कोटा केलिए निकल पड़े । waiting टिकट की बजह से हम 4 दोस्त पूरे ट्रैन सफर में कभी लैट्रिन के पास तो कभी किसीके सीट पर मात्र रात में सब लोग अपनी अपनी सीट पर सो जाने के बाद हम लैट्रिन के पास बैठके 2 दीन 2 रात निकाल दिए । कोई भी पैसेंजर लैट्रिन में आता था तो परेशानी होता था । दूसरे दिन रात को 02 बजह कोटा में उतरे । ओडिशा से जितने भी लडके आये थे सब उसी ट्रैन में थे । 2 बजह हम बाहर आ कर deoli केलिए local बस में बैठे सुबह सुबह 6 बजह हम deoli ट्रेनिंग सेन्टर में पहुंच गए थे ।
गेट पर प्रबेश के बाद हमारा नाम के साथ कॉल लेटर को चेक किया जा रहा था । गेट के दक्षिण में एक मैदान था उसमें कुछ लड़के की ट्रेनिंग चल रही थी । फ़ोर्स में कुछ गलती करोगे तो आपके साथ जितने लड़के होंगे सबको दंड मिलता था । सायद कोई लड़का गलती किया होगा इशलिये पूरे प्लाटून को दंड दिया जा रहा था । उसी समय से मन मे डर बैठ गया था कि ट्रेनिंग । परंतु जब ट्रेनिंग सुरु और कैसे खत्म हुआ पता नहीं चला । हम जितने लड़के थे सबको अपनी ऊंचाई के हिसाब से कंपनी में भेज दिया गया । सोचे थे सारे लड़के एक जगह रहेंगे परंतु वहां सबको अलग अलग कर दिया गया और कंपनी के साथ एक Chest Number दिया गया । किसी भी जगह जाओ आपकी पहचान वही Chest Number से जाना जाता था । एक हफ्ते के पश्च्यात हमारी ट्रेनिंग आरंभ हुआ हुआ और सितंबर में खत्म हो गया था ।
दोस्त यह था मेरा ट्रेनिंग तक जाने का सफर । मेरा ये स्टोरी आपको कैसा लगा कमेंट जरूर कीजिये और मेंरे ब्लॉग को Subscribe कीजिये । ट्रेनिंग की कुछ यादें है अगर आपको ट्रेनिंग की कहानी पढ़ना है तो कमेंट में जरूर बताएं।
धन्यबाद

Success Story ( Part-1 )

Success Story ( Part-1 )
Success Story ( Part-1 )

16 फरबरी 2010 को शाम को में गाय केलिए खर लेकर आ रहा था । मेरे गांव को प्रबेश से पहले एक चौकी पड़ता है । उश जगह मेरे भाग्य खोलने बाला ब्यक्ति मेरा इंतजार कर रहे थे । पीछे से आवाज़ आया कोई पत्र(Letter) आया है तुम्हारे नाम पर । मेंने पूछा कहाँ से आया है । तो वो बोले कि “तू फ्रेश होकर घर के सामने आ जा” में इंतजार कर रहा हूँ आने के बाद खुद देख लेना । में हां बोलते हुए गाय को खर देकर जल्दी जल्दी फ्रेश हो कर घर के सामने आया । बह ब्यक्ति के चेहरे पर थोड़ा मुस्कान था । बह मुस्कान देख कर मेरे चेहरे पर भी थोड़ा मुस्कान आया । में पूछा बताओ तो क्या है पत्र ? बो पत्र को मेरे हाथ मे थमाते हुए बोले की यह तीसरा पत्र है । में क्या बोलूं तू ही खोल और बता क्या है ये ? इस से पहले भी 02 लेटर समान पते से मुझे प्राप्त हुआ था । पत्र को खोला और कुछ शब्द को पढ़कर इतना खुस हुआ जैसे कि मेरे चेहरे में रौनक आ गया । बह था मेरा Medical Examination की आमंत्रण पत्र । में इतना जानता था कि में मेडिकल परीक्षा में विफल नहीं हो सकता । इसलिए मेरे अपने ऊपर भरोसा था ओर खुसी के मारे नाचने को मन किया था । सामने बैठा ब्यक्ति हमारे गांब के पोस्ट मास्टर थे । उनको बहुत धन्यवाद दिया । क्योंकि उश समय मेरे भाग्य लेकर आने बाला ब्यक्ति वही थे । बो भी बहुत खुस हुए । बह एक शब्द बोले कि मुझे लगा कि कोई अति महत्वपूर्ण पत्र होगा इशलिये बह उसको आज ही लेकर आये। इतना बोलकर पोस्ट मास्टर जी अपने गांब की और प्रस्थान किये ।

अगले दिन 17 तारीख मेरा BA Last Year की आखरी Paper था । परंतु मेरा मन तो आमंत्रित पत्र पर था । परीक्षा कैसे गया और क्या लिखा मुझे ठीक से याद नहीं फिर भी परिक्षा मेरा अच्छा हुआ था । मेरे पास सिर्फ 05 दिन था और उसी 05 दिन के अंदर एक दिन इतवार भी था बचा 04 दिन में कुछ कागजात इकठ्ठा करना था । जो तहसीलदार और पुलिस स्टेशन तथा जिलापाल कार्यालयों से इकठ्ठा करना था । आप जानते होंगे इस कार्यलयों में काम जल्दी होता नहीं है फिर भी मेरा भाग्य मेरा साथ दिया था ।
18 तारीख को में पुलिस स्टेशन पर गया जो कि मुझे अपनी Personal Verification करना था । Verification यह कि मेरे ऊपर कोई गैर कानूनी मुकदमा तो नहीं चल रहा है या पहले हुआ है । किसी भी सरकारी नौकरी होने से पूर्ब यह कागजात आपको इकठ्ठा करना पड़ता है तो उस दिन सुबह 10 बजह पुलिस स्टेशन पहुंच गया । मेरे हाथ में अपना आमंत्रित पत्र तथा Blank Police Verification Letter को लेकर पुलिस स्टेशन के अन्दर प्रबेश किया । मन मे डर रहते हुए जीबन काल मे पहली बार पुलिस स्टेशन में प्रबेश कर रहा था । अंदर दो पुलिस के जवान कुछ लिख रहे थे । मुझे पूछे क्या हुआ भाई मेने दोनों पत्र उनको दिखाते हुए कहा कि श्रीमान मुझे अपनी पुलिस Verification करना है । दोनों जवान मेरे चेहरे को बार बार देखें और बोले कि जाओ बाहर जो बेंच है उसमें बैठो हम जब बुलाएंगे तब आप आओगे । उनकी जबाब के बाद में बाहर बेंच में आकर बैठ गया । सुबह 10.00 बजह से लेकर दोपहर 4.00 बजह तक कई बार उनके पास गया । मुझे बही उत्तर मिलता था जाओ बाहर बैठो आपको हम बुलायेंगे । मन तो कर रहा था चला जाऊं अपनी गांब ! सरकारी नौकरी केलिए इतना तंग होना पड़ता है !!! फिर मन को शांत करके बोलता था थोड़ा संयम रख इतना मेहनत के बाद ये मिला है उसको ऐसे जाने देगा क्या?? ठीक है कब तक बिठाएंगे रात भी हो जाये आज Sign करके ही जाऊंगा । 4.05 में एक हाबिलदार मेजर स्टेशन में प्रबेश करने से पहले उनकी नज़र मेरे ऊपर पड़ा । मुझे इसारे से पूछे कहाँ और यहां क्यों बैठे हो ?? उनकी इसारा का जबाब देते हुए अपना आमंत्रित पत्र तथा Verification पत्र दिखाया । तो बह बोले यहां क्यों बैठे हो ?? अंदर आकर Sign करके जाओ अपने गांब । उनकी ये बात सुनकर मेरे दिल मे कुछ समय केलिए खुसी महसुस हुआ । हाबिलदार मेजर को बोला की में कई बार अंदर Sign करने केलिए आया हूँ परंतु बो दोनों Sir मुझे यह बोलते हैं कि आपको हम बुलाएंगे आप बाहर बैठो । फिर हाबिलदार मेजर ने मुझे पूछे की आप कब आये ? मेने कहा श्रीमान में सुबह 10 बजह से यहाँ बैठा हूँ । इतना सुनकर बह थोड़ा गुस्से में उन जवान को बोले “क्यों भी इनका काम क्यों नहीं कर रहे हो” । बाद में मुझे अंदर बुलाया गया और मेरा नाम तथा मेरे बारें मे जानकारी लिया गया और पूछा गया कि कोई गैर कानूनी काम किये हो क्या या कोई राजनीति पार्टी के साथ घूमते हो क्या ?? तथा बहुत सारे प्रश्न पूछे । उन्होंने मेरा नाम उनकी रेजिस्टर में दर्ज किये तथा SHO Sir के चैम्बर में जाने केलिए बोले और आदेश दिया कि जो जो सबाल हम आपको किये बही सबाल SHO Sir पूछ सकते हैं तो सही सही जबाब देना नहीं तो कोई Sign नहीं कराएंगे । उनकी आदेश का पालन करते हुए चैम्बर के अंदर गया । बहां SHO Sir के साथ और एक आदमी बैठे थे । मे उनको सम्मान देते हुए अंदर प्रबेश किया । SHO Sir ने मुझे प्रथम प्रश्न पूछे कि “आप आखरी बार police स्टेशन कब आये थे” तो मैने जबाब दीया Sir में आज पहली बार आया हूँ । दूसरा प्रश्न नहीं था एक सलाह था “आप एक देश के जवान बन ने जा रहे हो ” देश का नाम ऊंचा रखना । इतना सुन कर में बहुत खुश हुआ । Sir मुझे Pen मांगे और मेरे Pen से Verification पत्र पर Sign किये । दिन भर भूका था जब आखरी में SHO Sir की सलाह सुनकर दिल को थोड़ा सुकून मिला और मन मे एक अलग सी आशा जागने लगा था ।
तीसरा दिन मेरा तहसीलदार कार्यालय में Central OBC Certificate में Sign की जरूरत था । बह कार्य भी हुआ परंतु दोपहर के बाद हुआ क्योंकि तहसीलदार साहब कार्यालय से बाहर थे । आखरी में जिल्लापाल कार्यालय में कागजात बाकी रह गया । परंतु शनिबार होने हेतु काम होगा या नहीं होगा मन में डर बिठाकर जिल्लापाल कार्यालय में गया मगर बहां भी बहुत आदमी कतार में खड़े थे । परंतु उश जगह भी सही बक्त पर कागजात पर Sign हो गया ।
22 तारीख को शाम को बस से Rourkela की और निकल पड़ा और दूसरे दिन सुबह पहुंचा । अगले दिन सुबह यानी कि 24 feb को मेरा medical Examination था और सुबह Recruitment की गेट पर सही समय पर पहुंच गया था।
बाकी की कहानी में अगले Blog में लेकर आऊंगा । वह भी बहुत मजेदार कहानी है । मुझे पता है आप जरूर पढ़ेंगे परंतु इस से पूर्ब मेरा Blog को आप follow करना पड़ेगा तब आपको Email में Notification आएगा और बाकी की कहानी को आप आसानी से पढ़ पाएंगे ।
दोस्तो एक सबाल था आपसे की असल मे उश दिन भर मुझे पुलिस स्टेशन पर क्यों बैठना पड़ा । वह दोनों जवान मेरे साथ ऐसा ब्यबहार क्यों किये ??? अगर वह चाहते तो मेरा काम 10 मिनट में कर सकते परंतु सुबह 10.00 बजह से दोपहर 04.00 बजह तक बिठाके रखने का क्या तात्पर्य था ???
आपके पास इसका जबाब है तो Comment Box में जरूर बताएं !!
Follow the links