Injustice ( अन्याय )


Injustice अन्याय विरोध
Injustice



कुछ व्यक्ति आपके आश पास जरूर होंगे जैसे सच कहने से बह कभी पीछे नहीं हटते । 

यह सब लोग ना किसकी गुलामी करते है ना करना पसंद करते हैं । 

सुनी सुनाई बातों को गौर करना उनकी एक आदत है । 

हां यह तो है बाल को खाल निकालना बह पसंद करते हैं । 

सच्चाई क्या है बह हरवक्त ढूंढने की कोशिश में लगे रहते हैं। 

अगर अन्याय हो तो उनके पास सहन शक्ति की मजबूती भंग हो जाता है ।

अन्याय का विरोध करने केलिए हरवक्त आगे ही रहते हैं । 

ऐसे लोगों पीठ पीछे बोलने से बेहतर सामने बोलना ज्यादा पसंद करते हैं ।

मगर बात यह है बह हरवक्त सही रहते हैं मगर दुनिया उनको गलत साबित करने में लगे रहते है ।

कारण यह है की अन्याय करने वाले लोग सब अपने होते हैं 

और उनको गलत ना करने की सुझाव देता रहता है ।

मगर होता क्या है ? अपनो ने उसको पागल या धर्म भ्रष्ट का उदाहरण समान बना देते हैं।  

सही राह पर चलने पर भी दुनिया हर बात पर उसको गलत ठहराता रहता है । 

मगर बह व्यक्ति कभी पीछे नहीं हटता है ना किसी की बात सुनता है ।

जब दूसरे की अन्याय देख नहीं सकता तो अपने ऊपर होने वाले अन्याय पर वह विद्रोह करने पर पीछे नहीं हटता । 

मगर परिणाम क्या है लोग उसे तरह तरह का गंदे नमूना का उपहार देने लगते हैं ।

क्या ऐसे व्यक्ति स्वरूप आप बनना चाहोगे । जवाब में कुछ लोग हां बोलेंगे तो कुछ लोग ना बोलेंगे ।

मगर ऐसे व्यक्ति बनो या ना बनो कोई जबरदस्ती नहीं मगर जहां अन्याय होता है वहां आवाज उठाना जरूरी है।  

मुझे यह आशा है आप भी अन्याय को सहन नहीं कर पाते होंगे । 

अन्याय दूसरे के ऊपर हो या अपने ऊपर… जहां गलत हो रहा है वहां आवाज उठाना जरूरी है ।

यह मेसेज आप तक पहुंचाना था बाकी आगे की जिम्मेदारी आपकी है । 

धन्यवाद…

By. N Bhuyan

If the contents helpful so share to your friends, Thanking You.

Facebook Comments

Put your Valuable feedback